Share this page on following platforms.

Home Gurus Kripaluji

Tum Hi Maan Lo Haar Pravachan by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj

Tum Hi Maan Lo Haar by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 8/8

Tum Hi Maan Lo Haar by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 7/8

Tum Hi Maan Lo Haar by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 6/8

Tum Hi Maan Lo Haar by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 5/8

Tum Hi Maan Lo Haar by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 4/8

Tum Hi Maan Lo Haar by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 3/8

Tum Hi Maan Lo Haar by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 2/8

Tum Hi Maan Lo Haar by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 1/8

Contents of this list:

Tum Hi Maan Lo Haar by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 8/8
Tum Hi Maan Lo Haar by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 7/8
Tum Hi Maan Lo Haar by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 6/8
Tum Hi Maan Lo Haar by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 5/8
Tum Hi Maan Lo Haar by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 4/8
Tum Hi Maan Lo Haar by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 3/8
Tum Hi Maan Lo Haar by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 2/8
Tum Hi Maan Lo Haar by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 1/8

Bhajan Lyrics View All

श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना