Share this page on following platforms.

Home Gurus Kripaluji

Sunahu Sadhak Pravachan by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj

Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 1/

Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 2/

Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 3/

Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 4/

Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 5/

Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 6/

Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 7/

Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 8/

Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 9/

Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 10/

Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 11/

Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 12/

Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 13/

Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 14/

Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 15/

Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 16/

Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 17/

Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part /

Contents of this list:

Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 1/
Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 2/
Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 3/
Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 4/
Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 5/
Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 6/
Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 7/
Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 8/
Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 9/
Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 10/
Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 11/
Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 12/
Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 13/
Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 14/
Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 15/
Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 16/
Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part 17/
Sunahu Sadhak by Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj - Part /

Bhajan Lyrics View All

वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का