Share this page on following platforms.

Home Gurus Kripaluji

Narad Bhakti Darshan - Kripalu ji

Narad Bhakti Darshan 3 of 36

Narad Bhakti Darshan 4 of 36

Narad Bhakti Darshan 5 of 36

Narad Bhakti Darshan 6 of 36

Narad Bhakti Darshan 7 of 36

Narad Bhakti Darshan 9 of 36

Narad Bhakti Darshan 10 of 36

Narad Bhakti Darshan 11 of 36

Narad Bhakti Darshan 12 of 36

Narad Bhakti Darshan 13 of 36

Narad Bhakti Darshan 14 of 36

Narad Bhakti Darshan 15 of 36

Narad Bhakti Darshan 16 of 36

Narad Bhakti Darshan 17 of 36

Narad Bhakti Darshan of 36

Narad Bhakti Darshan 19 of 36

Narad Bhakti Darshan 20 of 36

Narad Bhakti Darshan 21 of 36

Narad Bhakti Darshan 22 of 36

Narad Bhakti Darshan 23 of 36

Narad Bhakti Darshan 24 of 36

Narad Bhakti Darshan 25 of 36

Narad Bhakti Darshan 26 of 36

Narad Bhakti Darshan 27 of 36

Narad Bhakti Darshan 28 of 36

Narad Bhakti Darshan 29 of 36

Narad Bhakti Darshan 30 of 36

Narad Bhakti Darshan 31 of 36

Narad Bhakti Darshan 32 of 36

Narad Bhakti Darshan 33 of 36

Narad Bhakti Darshan 34 of 36

Narad Bhakti Darshan 35 of 36

Narad Bhakti Darshan 36 of 36

Contents of this list:

Narad Bhakti Darshan by Kripalu ji. 36 pravachan videos. Full serie

Bhajan Lyrics View All

ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥