Share this page on following platforms.

Home Gurus Kripaluji

Kripaluji bhajan

Shree Radhey Radhey Radhey - Kirtan with Jagadguru Shree Kripalu Ji Maharaj

Radhe Radhe Govinda- a Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj written sankirtan

4- Bhajan - Radhey Govind Radhey- Braj Parikari devi - Jagad Guru Kripaluji Maharaj

Radhey Radhey Govind

5-Bhajan-Radhey Radhey Govind Radhey-Braj Parikari devi-Jagad Guru Kripaluji Maharaj

1-Bhajan - Man Karu Sumiran Radhe Rani ke charan -Braj Parikari devi - Jagad Guru Kripaluji Maharaj

Balihari Hain Tihari Guru - Kirtan with Jagadguru Shree Kripalu Ji Maharaj

kripa karu kripa karu radhey - Jagadguru Kripalu ji maharaj ji

AARTI - JAGADGURU KRIPALUJI MAHARAJ

Jayati Guruvar

Jai Nandnandan Sukhdham Hare

Contents of this list:

Shree Radhey Radhey Radhey - Kirtan with Jagadguru Shree Kripalu Ji Maharaj
Radhe Radhe Govinda- a Jagadguru Shri Kripaluji Maharaj written sankirtan
4- Bhajan - Radhey Govind Radhey- Braj Parikari devi - Jagad Guru Kripaluji Maharaj
Radhey Radhey Govind
5-Bhajan-Radhey Radhey Govind Radhey-Braj Parikari devi-Jagad Guru Kripaluji Maharaj
1-Bhajan - Man Karu Sumiran Radhe Rani ke charan -Braj Parikari devi - Jagad Guru Kripaluji Maharaj
Balihari Hain Tihari Guru - Kirtan with Jagadguru Shree Kripalu Ji Maharaj
kripa karu kripa karu radhey - Jagadguru Kripalu ji maharaj ji
AARTI - JAGADGURU KRIPALUJI MAHARAJ
Jayati Guruvar
Jai Nandnandan Sukhdham Hare

Bhajan Lyrics View All

तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।