Share this page on following platforms.

Home Gurus Kripaluji

kripaluji

Deleted video

Condition Of Devotion By Kripaluji Maharaj

Principle of Devotion(Bhakti Tatva) By KripaluJi Maharaj

How to use your time( Kripalu Ji Maharaj ).wmv

JAIPUR : Sumiran Karle Mana-Speech (28th Dec 2012)

92nd Birth Day of Jagadguru Shri Kripalu JI Maharaj

Shobha Yatra & Pushpa Visarjan (Vrindavan)

Shreemad Bhagwat Katha - Pundrik Goswamiji Maharaj - Vrindavan (Day 4)

Shreemad Bhagwat Katha - Pundrik Goswamiji Maharaj - Vrindavan (Day 5)

Shreemad Bhagwat Katha - Pundrik Goswamiji Maharaj - Vrindavan (Day 6)

All Charity works to remain unaffected, Vishakha to keep handling JKP affairs - Aaj Ki Khabar

Special Documentary : Jagadguru Kripalu Ji Maharaj - Aaj Ki Khabar

Who is a Guru? - Lecture by Kripaluji Maharaj [Subtitled]

Ram Naumi Lecture - Jagadguru Shri Kripalu Ji Maharaj (Hindi)

Shrey ka Swaroop - 1/9 - Jagadguru Shree Kripaluji Maharaj

Contents of this list:

Deleted video
Condition Of Devotion By Kripaluji Maharaj
Principle of Devotion(Bhakti Tatva) By KripaluJi Maharaj
How to use your time( Kripalu Ji Maharaj ).wmv
JAIPUR : Sumiran Karle Mana-Speech (28th Dec 2012)
92nd Birth Day of Jagadguru Shri Kripalu JI Maharaj
Shobha Yatra & Pushpa Visarjan (Vrindavan)
Shreemad Bhagwat Katha - Pundrik Goswamiji Maharaj - Vrindavan (Day 4)
Shreemad Bhagwat Katha - Pundrik Goswamiji Maharaj - Vrindavan (Day 5)
Shreemad Bhagwat Katha - Pundrik Goswamiji Maharaj - Vrindavan (Day 6)
All Charity works to remain unaffected, Vishakha to keep handling JKP affairs - Aaj Ki Khabar
Special Documentary : Jagadguru Kripalu Ji Maharaj - Aaj Ki Khabar
Who is a Guru? - Lecture by Kripaluji Maharaj [Subtitled]
Ram Naumi Lecture - Jagadguru Shri Kripalu Ji Maharaj (Hindi)
Shrey ka Swaroop - 1/9 - Jagadguru Shree Kripaluji Maharaj

Bhajan Lyrics View All

राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...