Share this page on following platforms.

Home Gurus Jaya Kishori ji

श्रीमद्‌भागवत कथा - जया किशोरी जी ॥ जयपुर

LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Jaya Kishori Ji - 31st Dec 2015 || Day 1

LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Jaya Kishori Ji - 1st Jan 2016 || Day 2

LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Jaya Kishori Ji - 2nd Jan 2016 || Day 3

LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Jaya Kishori Ji - 3rd Jan 2016 || Day 4

LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Jaya Kishori Ji - 4th Jan 2016 || Day 5

LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Jaya Kishori Ji - 6th Jan 2016 || Day 7

Shrimad Bhagwat Katha by Jaya Kishori Ji - 5th Jan 2016 || Day 6

Contents of this list:

LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Jaya Kishori Ji - 31st Dec 2015 || Day 1
LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Jaya Kishori Ji - 1st Jan 2016 || Day 2
LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Jaya Kishori Ji - 2nd Jan 2016 || Day 3
LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Jaya Kishori Ji - 3rd Jan 2016 || Day 4
LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Jaya Kishori Ji - 4th Jan 2016 || Day 5
LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Jaya Kishori Ji - 6th Jan 2016 || Day 7
Shrimad Bhagwat Katha by Jaya Kishori Ji - 5th Jan 2016 || Day 6

Bhajan Lyrics View All

वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,