Share this page on following platforms.

Home Gurus Girishanand Saraswatiji

Bhagvat girishananda

Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 1

Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 2

Shreemad Bhagwat Katha - Shri Girishanand Saraswatiji Maharaj - Day 6, (Iskcon Temple, Juhu)

Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part

Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 6

Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 4

Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 7

Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 9

Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 8

Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 10

Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 15

Shreemad Bhagwat Katha - Shri Girishanand Saraswatiji Maharaj - Day 4, (Iskcon Temple, Juhu)

Shreemad Bhagwat Katha - Shri Girishanand Saraswatiji Maharaj - Day 2, (Iskcon Temple, Juhu)

Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part

Shreemad Bhagwat Katha - Shri Girishanand Saraswatiji Maharaj - Day 5, (Iskcon Temple, Juhu)

Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 1

Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 3

Contents of this list:

Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 1
Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 2
Shreemad Bhagwat Katha - Shri Girishanand Saraswatiji Maharaj - Day 6, (Iskcon Temple, Juhu)
Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part
Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 6
Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 4
Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 7
Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 9
Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 8
Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 10
Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 15
Shreemad Bhagwat Katha - Shri Girishanand Saraswatiji Maharaj - Day 4, (Iskcon Temple, Juhu)
Shreemad Bhagwat Katha - Shri Girishanand Saraswatiji Maharaj - Day 2, (Iskcon Temple, Juhu)
Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part
Shreemad Bhagwat Katha - Shri Girishanand Saraswatiji Maharaj - Day 5, (Iskcon Temple, Juhu)
Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 1
Shrimad Bhagwat Katha by Girishanand Ji Maharaj Part 3

Bhajan Lyrics View All

राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥