Share this page on following platforms.

Home Gurus Ravinandan shastri ji

Sadhvi ritambra

Bhagwat Katha By Pujya Didi Maa Sadhvi Ritambhara Ji, Una (H.P) - Day 5

Ram janmabhoomi 4th dharma sansad part 2

Pujya Didi Maa Sadhvi Ritambhara in Kashi - 29-1-15 - Part 1

Pujya Didi Maa Sadhvi Ritambhara Ji (Day 1) Devi Bhagwat Katha Indore (M.P)

Devi Bhagwat Katha - Sadhvi Ritambhara Ji || Episode 24

Pravachan Epi 5 By Didi Maa Sadhvi Ritambhara Ji

Devi Bhagwat Katha - Sadhvi Ritambhara Ji || Episode 19

Pujya Didi Maa Sadhvi Ritambhara Ji (Day 8) Devi Bhagwat Katha Indore (M.P)

Didi Maa Sadhvi Ritambara Ji Shrimad Bhagwat Katha Day 3

Tum Sath Sath Rehna Vinod Agarwal

Shri Radha Rani Braj Yatra 2009....Evening Nritya

Shree Ravi Nandan Shastri JI

Contents of this list:

Bhagwat Katha By Pujya Didi Maa Sadhvi Ritambhara Ji, Una (H.P) - Day 5
Ram janmabhoomi 4th dharma sansad part 2
Pujya Didi Maa Sadhvi Ritambhara in Kashi - 29-1-15 - Part 1
Pujya Didi Maa Sadhvi Ritambhara Ji (Day 1) Devi Bhagwat Katha Indore (M.P)
Devi Bhagwat Katha - Sadhvi Ritambhara Ji || Episode 24
Pravachan Epi 5 By Didi Maa Sadhvi Ritambhara Ji
Devi Bhagwat Katha - Sadhvi Ritambhara Ji || Episode 19
Pujya Didi Maa Sadhvi Ritambhara Ji (Day 8) Devi Bhagwat Katha Indore (M.P)
Didi Maa Sadhvi Ritambara Ji Shrimad Bhagwat Katha Day 3
Tum Sath Sath Rehna Vinod Agarwal
Shri Radha Rani Braj Yatra 2009....Evening Nritya
Shree Ravi Nandan Shastri JI

Bhajan Lyrics View All

हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता