Share this page on following platforms.

Home Gurus Ravinandan shastri ji

Ravinandan shstri

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 38

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 39

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 40

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 41

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 42.vob

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 43.vob

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 44

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 45

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 54

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 55

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 56

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 57

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 58

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 59

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 60

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 61

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 62

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 63

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 64

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 65

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 66

Contents of this list:

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 38
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 39
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 40
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 41
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 42.vob
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 43.vob
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 44
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 45
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 54
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 55
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 56
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 57
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 58
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 59
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 60
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 61
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 62
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 63
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 64
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 65
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 66

Bhajan Lyrics View All

तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।