Share this page on following platforms.

Home Gurus Ravinandan shastri ji

Lj

KISHORI TERE CHARNAN MAIN BY RAVINANDEN SHASHTARI.MPG

Khule hain mann mandir ke dwar -Bhaiya Kishan Das

kishori tere charnan mein video by monu phagwara9815204452.mpg

Private video

kurban kyu na jau ...... radha krishna bhajan.....ravinandan shastri ji.mp4

Ladli Radhe Swamini Radhe by Sadhvi Purnima ji at Barsana Samaj on Holi 2015

Mein to Aayi Barsano Dhaam Kishori Tere Charnan Mein, Bhajan by Govind Bhayia Ji

Teri Bigadi bana degi-Bhaiya Kishan Das Sirsa

sri ravinandan shastri ji monuphagwara9815204452.mpg

"Jai Shri Krishna-Lagan Tumse Laga Baithe, Jo Hoga Dekha Jayega"

Contents of this list:

KISHORI TERE CHARNAN MAIN BY RAVINANDEN SHASHTARI.MPG
Khule hain mann mandir ke dwar -Bhaiya Kishan Das
kishori tere charnan mein video by monu phagwara9815204452.mpg
Private video
kurban kyu na jau ...... radha krishna bhajan.....ravinandan shastri ji.mp4
Ladli Radhe Swamini Radhe by Sadhvi Purnima ji at Barsana Samaj on Holi 2015
Mein to Aayi Barsano Dhaam Kishori Tere Charnan Mein, Bhajan by Govind Bhayia Ji
Teri Bigadi bana degi-Bhaiya Kishan Das Sirsa
sri ravinandan shastri ji monuphagwara9815204452.mpg
"Jai Shri Krishna-Lagan Tumse Laga Baithe, Jo Hoga Dekha Jayega"

Bhajan Lyrics View All

तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है