Share this page on following platforms.

Home Gurus Ravinandan shastri ji

F

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 126

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 116

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 93

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 95

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 114

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 121

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 130

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 132

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 133

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 135

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 109

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 110

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 102

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 136

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 135

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 134

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 133

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 133

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 132

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 131

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 130

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 129

Contents of this list:

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 126
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 116
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 93
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 95
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 114
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 121
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 130
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 132
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 133
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 135
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 109
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 110
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 102
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 136
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 135
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 134
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 133
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 133
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 132
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 131
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 130
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 129

Bhajan Lyrics View All

यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है