Share this page on following platforms.

Home Gurus Ravinandan shastri ji

Bhajans

rukmani vivah phagwara sri ravi nandan shastri ji

man chal varindavan chaliye

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 94

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 12

Bharatiya Sankirtan Prachrak Mandal. 65th Varshik Utsav, Shri Ravinandan Shastri ji

Shree Ravi Nandan Shastri Ji

Shree Ravi Nandan Shastri Ji

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 21

Ravi Nandan Shastri Ji

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 15

mujhe meri masti sri ravi nandan shastri ji phagwara katha

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 1

man chal varindavan chaliye

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 60

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 119

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 85

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 53

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 99

Shree Ravi Nandan Shastri Ji

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 20

maharaas bhajan sri ravi nandan shastri ji maharaj

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 1

mujhe meri masti kaha leke aayee ful bhajan by sri ravi nandan shastri ji maharaj ji

Contents of this list:

rukmani vivah phagwara sri ravi nandan shastri ji
man chal varindavan chaliye
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 94
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 12
Bharatiya Sankirtan Prachrak Mandal. 65th Varshik Utsav, Shri Ravinandan Shastri ji
Shree Ravi Nandan Shastri Ji
Shree Ravi Nandan Shastri Ji
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 21
Ravi Nandan Shastri Ji
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 15
mujhe meri masti sri ravi nandan shastri ji phagwara katha
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 1
man chal varindavan chaliye
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 60
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 119
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 85
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 53
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 99
Shree Ravi Nandan Shastri Ji
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 20
maharaas bhajan sri ravi nandan shastri ji maharaj
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 1
mujhe meri masti kaha leke aayee ful bhajan by sri ravi nandan shastri ji maharaj ji

Bhajan Lyrics View All

मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,