Share this page on following platforms.

Home Gurus Ravinandan shastri ji

39 Bhagwat Katha Ravinandan

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 1

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 2

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 3

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 4

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 5

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 6

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 7

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 8

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 9

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 10

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 11

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 12

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 13

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 14

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 15

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 16

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 17

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 19

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 20

Contents of this list:

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 1
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 2
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 3
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 4
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 5
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 6
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 7
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 8
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 9
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 10
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 11
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 12
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 13
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 14
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 15
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 16
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 17
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 19
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 20

Bhajan Lyrics View All

राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना