Share this page on following platforms.

Home Gurus Rajeshwarnand Ji

Hari Saranam

Aaj Ka Darshan Vaishakh Krishna Navami 1st May 2016

Nikunj Kamra 2

Mere Banke Bihari Lal Nikunj Kamra

Teri mand mand muskaniya pe by nikunj kamra

sakhi re nikunj

Divya Shree Krishan Leela Chintan Katha Part 14 By Shri Hita Ambrish Ji in Narayana Vihar, New Delhi

Divya Shree Krishan Leela Chintan Katha Part 17 By Shri Hita Ambrish Ji in Narayana Vihar, New Delhi

Divya Shree Krishan Leela Chintan Katha Part By Shri Hita Ambrish Ji in Narayana Vihar, New Delhi

Pravachan - Shri Rajeshwarnand Ji Maharaj - Day 3 (Prempuri Ashram, Mumbai)

Divya Shree Krishan Leela Chintan Katha Part 11 By Shri Hita Ambrish Ji in Narayana Vihar, New Delhi

Contents of this list:

Aaj Ka Darshan Vaishakh Krishna Navami 1st May 2016
Nikunj Kamra 2
Mere Banke Bihari Lal Nikunj Kamra
Teri mand mand muskaniya pe by nikunj kamra
sakhi re nikunj
Divya Shree Krishan Leela Chintan Katha Part 14 By Shri Hita Ambrish Ji in Narayana Vihar, New Delhi
Divya Shree Krishan Leela Chintan Katha Part 17 By Shri Hita Ambrish Ji in Narayana Vihar, New Delhi
Divya Shree Krishan Leela Chintan Katha Part By Shri Hita Ambrish Ji in Narayana Vihar, New Delhi
Pravachan - Shri Rajeshwarnand Ji Maharaj - Day 3 (Prempuri Ashram, Mumbai)
Divya Shree Krishan Leela Chintan Katha Part 11 By Shri Hita Ambrish Ji in Narayana Vihar, New Delhi

Bhajan Lyrics View All

ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं