Share this page on following platforms.

Home Gurus Rajendra Das Ji

Rishikesh | 30 May - 5th June 2014 | Shrimad Bhagvad Katha | Shri Rajendra Das Ji Maharaj

#Sanskar Live | Shri Rajendra Das Ji Maharaj | Shrimad Bhagvad Katha | Rishikesh | Day 1

#Sanskar Live | Shri Rajendra Das Ji Maharaj | Shrimad Bhagvad Katha | Rishikesh | Day 7

#Sanskar Live | Shri Rajendra Das Ji Maharaj | Shrimad Bhagvad Katha | Rishikesh | Day 6

#Sanskar Live | Shri Rajendra Das Ji Maharaj | Shrimad Bhagvad Katha | Rishikesh | Day 5

#Sanskar Live | Shri Rajendra Das Ji Maharaj | Shrimad Bhagvad Katha | Rishikesh | Day 4

#Sanskar Live | Shri Rajendra Das Ji Maharaj | Shrimad Bhagvad Katha | Rishikesh | Day 3

#Sanskar Live | Shri Rajendra Das Ji Maharaj | Shrimad Bhagvad Katha | Rishikesh | Day 2

Contents of this list:

#Sanskar Live | Shri Rajendra Das Ji Maharaj | Shrimad Bhagvad Katha | Rishikesh | Day 1
#Sanskar Live | Shri Rajendra Das Ji Maharaj | Shrimad Bhagvad Katha | Rishikesh | Day 7
#Sanskar Live | Shri Rajendra Das Ji Maharaj | Shrimad Bhagvad Katha | Rishikesh | Day 6
#Sanskar Live | Shri Rajendra Das Ji Maharaj | Shrimad Bhagvad Katha | Rishikesh | Day 5
#Sanskar Live | Shri Rajendra Das Ji Maharaj | Shrimad Bhagvad Katha | Rishikesh | Day 4
#Sanskar Live | Shri Rajendra Das Ji Maharaj | Shrimad Bhagvad Katha | Rishikesh | Day 3
#Sanskar Live | Shri Rajendra Das Ji Maharaj | Shrimad Bhagvad Katha | Rishikesh | Day 2

Bhajan Lyrics View All

मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई