Share this page on following platforms.

Home Gurus Rajendra Das Ji

श्री भक्तमाल कथा - श्री राजेंद्र दास जी ॥ भरतपुर (राजस्थान)

LIVE - Gobhaktmal Katha by Rajendra Das Ji - 2 Mar 2016 || Day 1

LIVE - Gobhaktmal Katha by Rajendra Das Ji - 3 Mar 2016 || Day 2

Gobhaktmal Katha by Rajendra Das Ji - 4 Mar 2016 || Day 3

LIVE - Gobhaktmal Katha by Rajendra Das Ji - 5 Mar 2016 || Day 4

LIVE - Gobhaktmal Katha by Rajendra Das Ji - 6 Mar 2016 || Day 5

LIVE - Gobhaktmal Katha by Rajendra Das Ji - 7 Mar 2016 || Day 6

LIVE - Gobhaktmal Katha by Rajendra Das Ji - 8 Mar 2016 || Day 7

Contents of this list:

LIVE - Gobhaktmal Katha by Rajendra Das Ji - 2 Mar 2016 || Day 1
LIVE - Gobhaktmal Katha by Rajendra Das Ji - 3 Mar 2016 || Day 2
Gobhaktmal Katha by Rajendra Das Ji - 4 Mar 2016 || Day 3
LIVE - Gobhaktmal Katha by Rajendra Das Ji - 5 Mar 2016 || Day 4
LIVE - Gobhaktmal Katha by Rajendra Das Ji - 6 Mar 2016 || Day 5
LIVE - Gobhaktmal Katha by Rajendra Das Ji - 7 Mar 2016 || Day 6
LIVE - Gobhaktmal Katha by Rajendra Das Ji - 8 Mar 2016 || Day 7

Bhajan Lyrics View All

मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया