Share this page on following platforms.

Home Gurus Rajendra Das Ji

श्रीमद्‌भागवत कथा - श्री राजेंद्र दास जी || वृंदावन 22-28 अक्टूबर, 2015

LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Shri Rajendra Das Ji - 22th Oct 2015 || Day 1

LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Shri Rajendra Das Ji - 23th Oct 2015 || Day 2

LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Shri Rajendra Das Ji - 24th Oct 2015 || Day 3

LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Shri Rajendra Das Ji - 25th Oct 2015 || Day 4

LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Shri Rajendra Das Ji - 26th Oct 2015 || Day 5

LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Shri Rajendra Das Ji - 27th Oct 2015 || Day 6

LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Shri Rajendra Das Ji - 28th Oct 2015 || Day 7

Contents of this list:

LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Shri Rajendra Das Ji - 22th Oct 2015 || Day 1
LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Shri Rajendra Das Ji - 23th Oct 2015 || Day 2
LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Shri Rajendra Das Ji - 24th Oct 2015 || Day 3
LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Shri Rajendra Das Ji - 25th Oct 2015 || Day 4
LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Shri Rajendra Das Ji - 26th Oct 2015 || Day 5
LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Shri Rajendra Das Ji - 27th Oct 2015 || Day 6
LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Shri Rajendra Das Ji - 28th Oct 2015 || Day 7

Bhajan Lyrics View All

बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया