Share this page on following platforms.

Home Gurus Pundarik ji

Ramkatha Pundrik Maharaj Mathura 2015

Contents of this list:

Ram Katha Pujya Pundrikji Maharaj from Mathura (UP) 2015 part 7
Ram Katha Pujya Pundrikji Maharaj from Mathura (UP) 2015 part 3
Ram Katha Pujya Pundrikji Maharaj from Mathura (UP) 2015 part 2
Ram Katha Pujya Pundrikji Maharaj from Mathura (UP) 2015 part 1
Ram Katha Pujya Pundrikji Maharaj from Mathura (UP) 2015 part 5
Ram Katha Pujya Pundrikji Maharaj from Mathura (UP) 2015 part 6
Ram Katha Pujya Pundrikji Maharaj from Mathura (UP) 2015 part 7
Ram Katha Pujya Pundrikji Maharaj from Mathura (UP) 2015 part 8
Ram Katha Pujya Pundrikji Maharaj from Mathura (UP) 2015 part 9
Ram Katha Pujya Pundrikji Maharaj from Mathura (UP) 2015 part 10
Ram Katha Pujya Pundrikji Maharaj from Mathura (UP) 2015 part 11
Ram Katha Pujya Pundrikji Maharaj from Mathura (UP) 2015 part 12
Ram Katha Pujya Pundrikji Maharaj from Mathura (UP) 2015 part 13
Ram Katha Pujya Pundrikji Maharaj from Mathura (UP) 2015 part 14
Ram Katha Pujya Pundrikji Maharaj from Mathura (UP) 2015 part 15

Bhajan Lyrics View All

दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥