Share this page on following platforms.

Home Gurus Pundarik ji

Bhagavat Pundarik goswami

Pujya Pundrik Goswami Ji (Day 1) Bhagwat Katha Mumbai (Maharashtra)

Pujya Pundrik Goswami Ji (Day 4) Bhagwat Katha Mumbai (Maharashtra)

Pujya Pundrik Goswami Ji (Day 6) Bhagwat Katha Mumbai (Maharashtra)

Pujya Pundrik Goswami Ji (Day 2) Bhagwat Katha Mumbai (Maharashtra)

Hanuman Aur Jaduee Nagari - Hindi Animated Story For Children

Contents of this list:

Pujya Pundrik Goswami Ji (Day 1) Bhagwat Katha Mumbai (Maharashtra)
Pujya Pundrik Goswami Ji (Day 4) Bhagwat Katha Mumbai (Maharashtra)
Pujya Pundrik Goswami Ji (Day 5) Bhagwat Katha Mumbai (Maharashtra)
Pujya Pundrik Goswami Ji (Day 7) Bhagwat Katha Mumbai (Maharashtra)
Pujya Pundrik Goswami Ji (Day 4) Bhagwat Katha Mumbai (Maharashtra)
Pujya Pundrik Goswami Ji (Day 6) Bhagwat Katha Mumbai (Maharashtra)
Pujya Pundrik Goswami Ji (Day 2) Bhagwat Katha Mumbai (Maharashtra)
Hanuman Aur Jaduee Nagari - Hindi Animated Story For Children

Bhajan Lyrics View All

प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है