Share this page on following platforms.

Home Gurus Mridul Krishan ji

Govind Mero Hai Gopal Mero Hai LIVE by Govind bhargav ji, Gaurav krishan ji, Mridul krishan ji

Govind Mero Hai Gopal Mero Hai, Bhajan by Shri Govind Bhargava Ji

Govind mero hai

Contents of this list:

गोविंद मेरो है गोपाल मेरो है

श्री बनके बिहारी नंदलाल मेरो है
गोविंद मेरो है गोपाल मेरो है

गोविंद मेरो है गोपाल मेरो है
श्री बनके बिहारी नंदलाल मेरो है
गोविंद मेरो है गोपाल मेरो है

गोविंद मेरो है गोपाल मेरो है
श्री बनके बिहारी नंदलाल मेरो है
गोविंद मेरो है गोपाल मेरो है

गोविंद मेरो है गोपाल मेरो है
श्री बनके बिहारी नंदलाल मेरो है
गोविंद मेरो है गोपाल मेरो है

English Lyrics
Govind mero hai gopal mero hai

Shri banake bihari nandlal mero hai
Govind mero hai gopal mero hai

Govind mero hai gopal mero hai
Shri banake bihari nandlal mero hai
Govind mero hai gopal mero hai

Govind mero hai gopal mero hai
Shri banake bihari nandlal mero hai
Govind mero hai gopal mero hai

Govind mero hai gopal mero hai
Shri banake bihari nandlal mero hai
Govind mero hai gopal mero hai

Bhajan Lyrics View All

मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।