Share this page on following platforms.

Home Gurus Mridul Krishan ji

Bhjns

Uth Pardesi Tera by Shradhey Acharya Shri Gaurav Krishna Goswamiji

mohe bhaave bihari ji ko naam

Radha Rani Ke Charan Pyare by Shradhey Acharya Shri Gaurav Krishna Goswamiji

Contents of this list:

Deleted video
Tere Phulo Se Bhi Pyar-Shri Gaurav Krishna Goswami Ji
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
जनम जनम की भूली भटकी- श्री गौरव कृष्ण गोस्वामी जी
Uth Pardesi Tera by Shradhey Acharya Shri Gaurav Krishna Goswamiji
Deleted video
Sun radhika dulari by pujya Acharya shri gaurav krishna goswami ji
Sun radhika dulari by pujya Acharya shri gaurav krishna goswami ji
Mujhe Tumne Data Bahut Kuch Diya Hai By Mridul Krishna Ji
mohe bhaave bihari ji ko naam
Badi Door nagri by mridul krishna shastri ji
Sun radhika dulari by pujya Acharya shri gaurav krishna goswami ji
Bhakti Karta Chute Maro Pran-Pujya Shree Gaurav Krishna Goswami Ji
Tum Dhundo Mujhe Gopal-Shri Gaurav Krishna Goswami Ji
Badi Door nagri by mridul krishna shastri ji
Banke Bihari Mujhko - Acharya Mridul Krishan Shastri Ji
Mohan Se Dil Kyon Lagaya Hai OFFICIAL [FULL SONG]| krishnaji ki Aarti | krishna bhajans { HINDI }
बिहारी जी की नजरों में कुछ जादू पार्ट-2-श्री गौरव कृष्ण गोस्वामी जी
Radha Rani Ke Charan Pyare by Shradhey Acharya Shri Gaurav Krishna Goswamiji

Bhajan Lyrics View All

ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही