Share this page on following platforms.

Home Gurus Krishna Chandra Shastri Ji

Krishna

SANSKAR LIVE - SHRI KRISHNA CHANDRA SHASTRI - SHRIMAD BHAGVAT KATHA (DELHI) - DAY 1

SANSKAR LIVE - SHRI KRISHNA CHANDRA SHASTRI - SHRIMAD BHAGVAT KATHA (DELHI) - DAY 3

SANSKAR LIVE - SHRI KRISHNA CHANDRA SHASTRI - SHRIMAD BHAGVAT KATHA (NEW DELHI) - DAY 6

Govind Mero Hai Gopal Mero Hai - by Bhagwat Bhaskar Shri Thakurji

Jara Itana Bata De Kanha Tera Rang Kala Kyon - Shri Thakurji

Teri Marzi Ka Mein Hun Gulam O Mere Albele Ram - Shri Thakurji

Chata Teri तीन लोक न्यारी | Shri Krishna Chandra Shastri (Thakur Ji) || Full Songs

SANSKAR LIVE - SHRI KRISHNA CHANDRA SHASTRI - SHRIMAD BHAGVAT KATHA (NEW DELHI) - DAY 5

Contents of this list:

SANSKAR LIVE - SHRI KRISHNA CHANDRA SHASTRI - SHRIMAD BHAGVAT KATHA (DELHI) - DAY 1
SANSKAR LIVE - SHRI KRISHNA CHANDRA SHASTRI - SHRIMAD BHAGVAT KATHA (DELHI) - DAY 3
SANSKAR LIVE - SHRI KRISHNA CHANDRA SHASTRI - SHRIMAD BHAGVAT KATHA (NEW DELHI) - DAY 6
Govind Mero Hai Gopal Mero Hai - by Bhagwat Bhaskar Shri Thakurji
Jara Itana Bata De Kanha Tera Rang Kala Kyon - Shri Thakurji
Teri Marzi Ka Mein Hun Gulam O Mere Albele Ram - Shri Thakurji
Chata Teri तीन लोक न्यारी | Shri Krishna Chandra Shastri (Thakur Ji) || Full Songs
SANSKAR LIVE - SHRI KRISHNA CHANDRA SHASTRI - SHRIMAD BHAGVAT KATHA (NEW DELHI) - DAY 5

Bhajan Lyrics View All

ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥