Share this page on following platforms.

Home Gurus Gyananand Ji

gyananandji Maharaj

Deleted video

Deleted video

Deleted video

Swami Gyananandji Hariyana

vaidik dharm samelan part 2

vaidik dharm samelan part 2

Swami Gyananad ji - Bhagwat Gita - #1 of 5

Swami Gyananad ji - Bhagwat Gita - #2 of 5

Hare Krishana Hare Krishana

Sri Radhe Radhe Radhe Radhe Radhe Radhe

Adhytmik Gyan Charcha E02-1/4 - Swami Gyanand Ji & Sant Rampal Ji Maharaj

Adhytmik Gyan Charcha E08-1/3 - Swami Gyanand Ji & Sant Rampal Ji Maharaj

Contents of this list:

Deleted video
Deleted video
Deleted video
Swami Gyananandji Hariyana
vaidik dharm samelan part 2
vaidik dharm samelan part 2
Swami Gyananad ji - Bhagwat Gita - #1 of 5
Swami Gyananad ji - Bhagwat Gita - #2 of 5
Hare Krishana Hare Krishana
Sri Radhe Radhe Radhe Radhe Radhe Radhe
Adhytmik Gyan Charcha E02-1/4 - Swami Gyanand Ji & Sant Rampal Ji Maharaj
Adhytmik Gyan Charcha E08-1/3 - Swami Gyanand Ji & Sant Rampal Ji Maharaj

Bhajan Lyrics View All

तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥