Share this page on following platforms.

Home Gurus Avdheshanand Giriji

Sw. Avdheshanand giri Ji

Control yourself

Swami Avdheshanand Giriji Maharaj

Avoid Self Praise

Life is Precious

Patan ke Karan

National Security Convention Swami Avadeshanand ji 1

Five Rules for Best Life.mp4

SHRIMAD BHAGWAT KATHA

How to be great.mp4

Grahasthashram.mp4

Greediness.mp4

Art of Talking.mp4

MAKE GOAL FOR SUCESSFULL LIFE

Art of Talking.mp4

Discourse By Swami Avdheshanand Giriji at Banswara

SHRIMAD BHAGWAT KATHA

Deleted video

Not to be proud

COW- GOMATA

glimpses of europe tour

Need For The GURU

PURE LIFE

Always Regards Ladies.mp4

Avoid Lazyness.mp4

Glimpses of Europe tour

Be Fearless

Sanskar.mp4

That is only God

Swami Avdheshanand Giriji

Life of Saint.mp4

Self Victory .mp4

Self Transformation

All are one

Real Happiness.mp4

Creation of God

Plant a Tree.mp4

Shreemad Bhagwat Katha, Uklana (Haryana)

Discourse By Swami Avdheshanand Giriji at Jodhpur

ALLAHABAD KUMBH 2013 PESWAI

Blessings of H.H. Swami Avdheshanand Giri Ji for Kumbh Mahayajna in America

National Security Convention Swami Avadeshanand ji 2

National Security Convention Swami Avadeshanand ji 1

Cause of unhappiness

Be Respect For Parents

Avoid Lazyness.mp4

ALLAHABAD KUMBH 2013 PESWAI

Cause of Sorrow

be a real human being

Goal should be high.

Time management By Swami Avdheshanand Giriji

PURE LIFE

Contents of this list:

Control yourself
Swami Avdheshanand Giriji Maharaj
Avoid Self Praise
Life is Precious
Patan ke Karan
National Security Convention Swami Avadeshanand ji 1
Five Rules for Best Life.mp4
SHRIMAD BHAGWAT KATHA
How to be great.mp4
Grahasthashram.mp4
Greediness.mp4
Art of Talking.mp4
MAKE GOAL FOR SUCESSFULL LIFE
Art of Talking.mp4
Discourse By Swami Avdheshanand Giriji at Banswara
SHRIMAD BHAGWAT KATHA
Deleted video
Not to be proud
COW- GOMATA
glimpses of europe tour
Need For The GURU
PURE LIFE
Always Regards Ladies.mp4
Avoid Lazyness.mp4
Glimpses of Europe tour
Be Fearless
Sanskar.mp4
That is only God
Swami Avdheshanand Giriji
Life of Saint.mp4
Self Victory .mp4
Self Transformation
All are one
Real Happiness.mp4
Creation of God
Plant a Tree.mp4
Shreemad Bhagwat Katha, Uklana (Haryana)
Discourse By Swami Avdheshanand Giriji at Jodhpur
ALLAHABAD KUMBH 2013 PESWAI
Blessings of H.H. Swami Avdheshanand Giri Ji for Kumbh Mahayajna in America
National Security Convention Swami Avadeshanand ji 2
National Security Convention Swami Avadeshanand ji 1
Cause of unhappiness
Be Respect For Parents
Avoid Lazyness.mp4
ALLAHABAD KUMBH 2013 PESWAI
Cause of Sorrow
be a real human being
Goal should be high.
Time management By Swami Avdheshanand Giriji
PURE LIFE

Bhajan Lyrics View All

जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता