Share this page on following platforms.

Home Gurus Avdheshanand Giriji

Avdheshanand Giriji - Devi Bhagvat Katha

Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Girji from Johannesburg, South Africa - 2

Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Giri ji from Johannesburg, South Africa - 1

Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Giri ji from Johannesburg, South Africa

Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Giri ji from Johannesburg, South Africa - 3

Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Giri ji from Johannesburg, South Africa - 2

Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Giri ji from Johannesburg, South Africa - 1

Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Giri ji from Johannesburg, South Africa - 3

Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Giri ji from Johannesburg, South Africa - 2

Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Girji from Johannesburg, South Africa

Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Giri ji from Johannesburg, South Africa

Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Girji from Johannesburg, South Africa

Contents of this list:

Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Girji from Johannesburg, South Africa - 2
Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Giri ji from Johannesburg, South Africa - 1
Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Giri ji from Johannesburg, South Africa
Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Giri ji from Johannesburg, South Africa - 3
Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Giri ji from Johannesburg, South Africa - 2
Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Giri ji from Johannesburg, South Africa - 1
Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Giri ji from Johannesburg, South Africa - 3
Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Giri ji from Johannesburg, South Africa - 2
Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Girji from Johannesburg, South Africa
Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Giri ji from Johannesburg, South Africa
Devi Bhagvat Katha Pujya Avdheshanad Girji from Johannesburg, South Africa

Bhajan Lyrics View All

दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला