Share this page on following platforms.

Home Gurus Avdheshanand Giriji

Avdheshanand Giriji Bhagwatkatha Ujjain (MP) 2016

Contents of this list:

Bhagwatkatha by Avdheshanand Giriji Maharaj from Kumbh Mahaparv 2016 Ujjain part 3
Bhagwatkatha by Avdheshanand Giriji Maharaj from Kumbh Mahaparv 2016 Ujjain part 2
Bhagwatkatha by Avdheshanand Giriji Maharaj from Kumbh Mahaparv 2016 Ujjain part 1
Bhagwatkatha by Avdheshanand Giriji Maharaj from Kumbh Mahaparv 2016 Ujjain part 4
Bhagwatkatha by Avdheshanand Giriji Maharaj from Kumbh Mahaparv 2016 Ujjain part 5
Bhagwatkatha by Avdheshanand Giriji Maharaj from Kumbh Mahaparv 2016 Ujjain part 6
Bhagwatkatha by Avdheshanand Giriji Maharaj from Kumbh Mahaparv 2016 Ujjain part 7
Bhagwatkatha by Avdheshanand Giriji Maharaj from Kumbh Mahaparv 2016 Ujjain part 8
Bhagwatkatha by Avdheshanand Giriji Maharaj from Kumbh Mahaparv 2016 Ujjain part 9
Bhagwatkatha by Avdheshanand Giriji Maharaj from Kumbh Mahaparv 2016 Ujjain part 10
Bhagwatkatha by Avdheshanand Giriji Maharaj from Kumbh Mahaparv 2016 Ujjain part 11

Bhajan Lyrics View All

दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे