Home >> Bhajans >> Mata ki bhetein >> तेरी मूर्ती नई बोलदी बुलाया लख्ख वार - teri mootri nai boldi bulaya lakh waar

Contents of this list:


तेरी मूर्ती नई बोलदी बुलाया लख्ख वार
कद्दे हो के दयाल कर साडा वी ख्याल
तेनु दुखड़ा मै दातिये सुनाया लख वार

नित्त बुहा ऐहो सोच के मै मल्लां दातिये
कद्दे माँ -पुत्त करांगे नी गल्लां दातिये
होर्र सारेयां नु सुख दिते वंड माये नी
पादे साडे वी तू कालजे -च ठण्ड माये नी
साड़ी सुन के पुकार क्यों तू बेठी चुप -तार
तेरी मूर्ती नई बोलदी ..

बोल मिठे -मिठे बोल माये गुस्सा जाणदे
चुन्नी गोटे वाली भगतां दे सिरे तान दे
दिल माँ दा जेय बच्च्याँ तो दूर रहेगा
फिर आसरा , बे-आसरे नु कोण देवेगा
क्यों हो के दयावान एदर कीता ना ध्यान
बड़ी आस रख मै तेयेते आया लख वार
तेरी मूर्ती नई बोलदी ..

एनां करमां दे मारेयाँ नु तू वी मार ना
कम्म हुंदा ऐ मल्लावां दा ते ..बढ़े तार्रना
तेरे ज्ररा जे इशारे दी ऐ गल्ल दातिये
सारी मुश्किलां ने हो जाणा हल दातिये
छेती हो जा तू प्रस्न ,साडी विनती तू मन
पाकेय निर्दोष त्र्रले मनाया लख वार
तेरी मूर्ती नई बोलदी ..
तेरी मूर्ती नई बोलदी ..

Matched Content