Share this page on following platforms.

Home Bhajans Krishna Bhajans

Tum Hamre The Prabhu Ji , Tum Hamare Ho, Tum Hamare Hi Rahoge, O Mere Priyatam

Hum Tumhare Hain Prabhu Ji | Mahara Khatu Ra Shyam | Jaya Kishori Ji & Chetna Sharma

Tum Humare Ho Prabhu Ji...

Contents of this list:

Tum Hamre The Prabhu Ji
Tum Hamare Ho
Tum Hamare Hi Rahoge
O Mere Priyatam

Hum Tumhare The Prabhu Ji
Hum Tumhare Hai
Hum Tumhare Hi Rahoge
O Mere Priyatam

Hum Tumhare The Prabhu Ji
Hum Tumhare Hai
Hum Tumhare Hi Rahoge
O Mere Priyatam

Tum Hamre The Prabhu Ji
Tum Hamare Ho
Tum Hamare Hi Rahoge
O Mere Priyatam

Hum Tumhare The Prabhu Ji
Hum Tumhare Hai
Hum Tumhare Hi Rahoge
O Mere Priyatam

Tum Hamre The Prabhu Ji
Tum Hamare Ho
Tum Hamare Hi Rahoge
O Mere Priyatam

Tumhe Chhod Nand Sun Nand Dulare Koi Naa Meet Hamaro
Tumhe Chhod Nand Sun Nand Dulare Koi Naa Meet Hamaro

Kiske Dware Jaaye Pukaru Aur Naa Koi Saharo
Kiske Dware Jaaye Pukaru Aur Naa Koi Saharo

Kiske Dware Jaaye Pukaru Aur Naa Koi Saharo
Kiske Dware Jaaye Pukaru Aur Naa Koi Saharo

Ab To Aaake Bah Pakadlo O Mere Priyatam
Ab To Aaake Bah Pakadlo O Mere Priyatam

Ab To Aaake Baah Pakadlo O Mere Priyatam
Ab To Aaake Baah Pakadlo O Mere Priyatam

Tum Hamre The Prabhu Ji
Tum Hamare Ho
Tum Hamare Hi Rahoge
O Mere Priyatam

Tum Hamre The Prabhu Ji
Tum Hamare Ho
Tum Hamare Hi Rahoge
O Mere Priyatam

Jai Ho

Hum Tumhare The Prabhu Ji
Hum Tumhare Hai
Hum Tumhare Hi Rahoge
O Mere Priyatam

Hum Tumhare The Prabhu Ji
Hum Tumhare Hai
Hum Tumhare Hi Rahoge
O Mere Priyatam

Hindi Lyrics
तुम हमारे थे प्रभु जी
तुम हमारे हो
तुम हमारे ही रहोगे
ओ मेरे प्रियतम

हम तुम्हारे थे प्रभु जी
हम तुम्हारे है
हम तुम्हारे ही रहोगे
ओ मेरे प्रियतम

तुम्हे छोड़ सुन नंद दुलारे कोई ना मीत हमारो
तुम्हे छोड़ सुन नंद दुलारे कोई ना मीत हमारो

किसके द्वारे जाए पुकारू और ना कोई सहरो
किसके द्वारे जाए पुकारू और ना कोई सहरो

किसके द्वारे जाए पुकारू और ना कोई सहरो
किसके द्वारे जाए पुकारू और ना कोई सहरो

अब तो आ कर बाँह पकाड़लो ओ मेरे प्रियतम
अब तो आ कर बाँह पकाड़लो ओ मेरे प्रियतम

अब तो आअकए बाँह पकाड़लो ओ मेरे प्रियतम
अब तो आअकए बाँह पकाड़लो ओ मेरे प्रियतम

तुम हमरे थे प्रभु जी
तुम हमारे हो
तुम हमारे ही रहोगे
ओ मेरे प्रियतम

तुम हमरे थे प्रभु जी
तुम हमारे हो
तुम हमारे ही रहोगे
ओ मेरे प्रियतम

हम तुम्हारे थे प्रभु जी
हम तुम्हारे है
हम तुम्हारे ही रहोगे
ओ मेरे प्रियतम

हम तुम्हारे थे प्रभु जी
हम तुम्हारे है
हम तुम्हारे ही रहोगे
ओ मेरे प्रियतम

Bhajan Lyrics View All

आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया