Share this page on following platforms.

Home Bhajans Krishna Bhajans

Badi door nagri, kahna badi door nagri by Oza ji, Mridul krishan ji and shri thakur ji [दूर नगरी बड़ी दूर नगरी]

Dur nagari...Rameshbhaiji oza

Door Nagari Badi Door Nagari (Bhajan By: Sri Thakurji)

Contents of this list:

English Lyrics
Door nagri badi door nagri
Kaise aaun mai kanhai teri gokul nagari
Door nagri badi door nagri

Raat mein aaun to kanha dar mohe laage
Din mein aaun to dekhe saari nagari
Badi door nagari
Kanha Door nagri badi door nagri
Kaise aaun mai kanhai teri gokul nagari

Sakhi sang aaun kanha saram mohe laage
Saram mohe lage kanha saram mohe laage
Akeli aaun to bhul jaaun dagari
Kanha Door nagri badi door nagri
Kaise aaun mai kanhai teri gokul nagari

Dheere deere chalu kanha kamar mori lachake
kamar mori lachake kamar mori lachake
chhat pat chalu to chhalkaye gagari
Kanha Door nagri badi door nagri
Kaise aaun mai kanhai teri gokul nagari

Badi door nagari Badi door nagari

Hindi Lyrics
दूर नगरी बड़ी दूर नगरी-नगरी

कैसे आऊं मैं तेरी गोकुल नगरी

दूर नगरी बड़ी दूर नगरी



रात को आऊं कान्हा डर माही लागे

दिन को आऊं तो देखे सारी नगरी। दूर नगरी॥।



सखी संग आऊं कान्हा शर्म मोहे लागे

अकेली आऊं तो भूल जाऊं तेरी डगरी। दूर नगरी॥॥।



धीरे-धीरे चलूं तो कमर मोरी लचके

झटपट चलूं तो छलका गगरी। दूर नगरी॥॥



मीरा कहे प्रभु गिरधर नागर

तुमरे दरस बिन मैं तो हो ग बावरी। दूर नगरी॥॥

Bhajan Lyrics View All

मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥