Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 9.8 Download BG 9.8 as Image

⮪ BG 9.7 Bhagwad Gita Swami Ramsukhdas Ji BG 9.9⮫

Bhagavad Gita Chapter 9 Verse 8

भगवद् गीता अध्याय 9 श्लोक 8

प्रकृतिं स्वामवष्टभ्य विसृजामि पुनः पुनः।
भूतग्राममिमं कृत्स्नमवशं प्रकृतेर्वशात्।।9.8।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 9.8)

।।9.8।।प्रकृतिके वशमें होनेसे परतन्त्र हुए इस प्राणिसमुदायको मैं (कल्पोंके आदिमें) अपनी प्रकृतिको वशमें करके बारबार रचता हूँ।

हिंदी टीका - स्वामी रामसुख दास जी

।।9.8।। व्याख्या --  भूतग्राममिमं कृत्स्नमवशं प्रकृतेर्वशात् -- यहाँ प्रकृति शब्द व्यष्टि प्रकृतिका वाचक है। महाप्रलयके समय सभी प्राणी अपनी व्यष्टि प्रकृति(कारणशरीर) में लीन हो जाते हैं? व्यष्टि प्रकृति समष्टि प्रकृतिमें लीन होती है और समष्टि प्रकृति परमात्मामें लीन हो जाती है। परन्तु जब महासर्गका समय आता है? तब जीवोंके कर्मफल देनेके लिये उन्मुख हो जाते हैं। उस उन्मुखताके कारण भगवान्में बहु स्यां प्रजायेय (छान्दोग्य0 6। 2। 3) -- यह संकल्प होता है? जिससे समष्टि प्रकृतिमें क्षोभ (हलचल) पैदा हो जाता है। जैसे? दहीको बिलोया जाय तो उसमें मक्खन और छाछ -- ये दो चीजें पैदा हो जाती हैं। मक्खन तो ऊपर आ जाता है और छाछ नीचे रह जाती है। यहाँ मक्खन सात्त्विक है? छाछ तामस है और बिलोनारूप क्रिया राजस है। ऐसे ही भगवान्के संकल्पसे प्रकृतिमें क्षोभ हुआ तो प्रकृतिसे सात्त्विक? राजस और तामस -- ये तीनों गुण पैदा हो गये। उन तीनों गुणोंसे स्वर्ग? मृत्यु और पाताल -- ये तीनों लोक पैदा हुए। उन तीनों लोकोंमें भी अपनेअपने गुण? कर्म और स्वभावसे सात्त्विक? राजस और तामस जीव पैदा हुए अर्थात् कोई सत्त्वप्रधान हैं? कोई रजःप्रधान हैं और कोई तमःप्रधान हैं।इसी महासर्गका वर्णन चौदहवें अध्यायके तीसरेचौथे श्लोकोंमें भी किया गया है। वहाँ परमात्माकी प्रकृतिको महद्ब्रह्म कहा गया है और परमात्माके अंश जीवोंका अपनेअपने गुण? कर्म और स्वभावके अनुसार प्रकृतिके साथ विशेष सम्बन्ध करा देनेको बीजस्थापन करना कहा गया है।ये जीव महाप्रलयके समय प्रकृतिमें लीन हुए थे? तो तत्त्वतः प्रकृतिका कार्य प्रकृतिमें लीन हुआ था और परमात्माका अंश -- चेतनसमुदाय परमात्मामें लीन हुआ था। परन्तु वह चेतनसमुदाय अपने गुणों और कर्मोंके संस्कारोंको साथ लेकर ही परमात्मामें लीन हुआ था? इसलिये परमात्मामें लीन होनेपर भी वह मुक्त,नहीं हुआ। अगर वह लीन होनेसे पहले गुणोंका त्याग कर देता? तो परमात्मामें लीन होनेपर सदाके लिये मुक्त हो जाता? जन्ममरणरूप बन्धनसे छूट जाता। उन गुणोंका त्याग न करनेसे ही उसका महासर्गके आदिमें अलगअलग योनियोंके शरीरोंके साथ सम्बन्ध हो जाता है अर्थात् अलगअग योनियोंमें जन्म हो जाता है।अलगअलग योनियोंमें जन्म होनेमें इस चेतनसमुदायकी व्यष्टि प्रकृति अर्थात् गुण? कर्म आदिसे माने हुए स्वभावकी परवशता ही कारण है। आठवें अध्यायके उन्नीसवें श्लोकमें जो परवशता बतायी गयी है? वह भी व्यष्टि प्रकृतिकी है। तीसरे अध्यायके पाँचवें श्लोकमें जो अवशता बतायी गयी है? वह जन्म होनेके बादकी परवशता है। यह परवशता तीनों लोकोंमें है। इसी परवशताका चौदहवें अध्यायके पाँवें श्लोकमें गुणोंकी परवशताके रूपमें वर्णन हुआ है।प्रकृतिं स्वामवष्टभ्य -- प्रकृति परमात्माकी एक अनिर्वचनीय अलौकिक विलक्षण शक्ति है। इसको परमात्मासे भिन्न भी नहीं कह सकते और अभिन्न भी नहीं कह सकते। ऐसी अपनी प्रकृतिको स्वीकार करके परमात्मा महासर्गके आदिमें प्रकृतिके परवश हुए जीवोंकी रचना करते हैं।परमात्मा प्रकृतिको लेकर ही सृष्टिकी रचना करते हैं? प्रकृतिके बिना नहीं। कारण कि सृष्टिमें जो परिवर्तन होता है? उत्पत्तिविनाश होता है? वह सब प्रकृतिमें ही होता है? भगवान्में नहीं। अतः भगवान् क्रियाशील प्रकृतिको लेकर ही सृष्टिकी रचना करते हैं। इसमें भगवान्की कोई असमर्थता? पराधीनता? अभाव? कमजोरी आदि नहीं है।जैसे मनुष्यके द्वारा विभिन्न कार्य होते हैं? तो वे विभिन्न करण? उपकरण? इन्द्रियों और वृत्तियोंसे होते हैं। पर यह मनुष्यकी कमजोरी नहीं है? प्रत्युत यह उसका इन करण? उपकरण आदिपर आधिपत्य है? जिससे वह इनके द्वारा कर्म करा लेता है। (हाँ? मनुष्यमें यह कमी है कि वह उन कर्मोंको अपना और अपने लिये मान लेता है? जिससे वह लिप्त हो जाता है अर्थात् अधिपति होता हुआ भी गुलाम हो जाता है।) ऐसे ही भगवान् सृष्टिकी रचना करते हैं तो उनका प्रकृतिपर आधिपत्य ही सिद्ध होता है। पर आधिपत्य होनेपर भी भगवान्में लिप्तता आदि नहीं होती।विसृजामि पुनः पुनः (टिप्पणी प0 495) -- यहाँ वि उपसर्गपूर्वक सृजामि क्रिया देनेका तात्पर्य है कि भगवान् जिन जीवोंकी रचना करते हैं? वे विविध (अनेक प्रकारके) कर्मोंवाले ही होते हैं। इसलिये भगवान् उनकी विविध प्रकारसे रचना करते हैं अर्थात् स्थावरजंगम? स्थूलसूक्ष्म आदि भौतिक शरीरोंमें भी कई पृथ्वीप्रधान? कई तेजप्रधान? कई वायुप्रधान आदि अनेक प्रकारके शरीर होते हैं? उन सबकी भगवान् रचना करते हैं।यहाँ यह बात समझनेकी है कि भगवान् उन्हीं जीवोंकी रचना करते हैं? जो व्यष्टि प्रकृतिके साथ मैं और,मेरा करके प्रकृतिके वशमें हो गये हैं। व्यष्टि प्रकृतिके परवश होनेसे ही जीव समष्टि प्रकृतिके परवश होता है। प्रकृतिके परवश न होनेसे महासर्गमें उसका जन्म नहीं होता। सम्बन्ध --  आसक्ति और कर्तृत्वाभिमानपूर्वक कर्म करनेसे मनुष्य कर्मोंसे बँध जाता है। भगवान् बारबार सृष्टिरचनारूप कर्म करनेसे भी क्यों नहीं बँधते इसका उत्तर भगवान् आगेके श्लोकमें देते हैं।