Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 9.6 Download BG 9.6 as Image

⮪ BG 9.5 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 9.7⮫

Bhagavad Gita Chapter 9 Verse 6

भगवद् गीता अध्याय 9 श्लोक 6

यथाऽऽकाशस्थितो नित्यं वायुः सर्वत्रगो महान्।
तथा सर्वाणि भूतानि मत्स्थानीत्युपधारय।।9.6।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 9.6)

।।9.6।।जैसे सब जगह विचरनेवाली महान् वायु नित्य ही आकाशमें स्थित रहती है? ऐसे ही सम्पूर्ण प्राणी मुझमें ही स्थित रहते हैं -- ऐसा तुम मान लो।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।9.6।। जैसे सर्वत्र विचरण करने वाली महान् वायु सदा आकाश में स्थित रहती हैं? वैसे ही सम्पूर्ण भूत मुझमें स्थित हैं? ऐसा तुम जानो।।