Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 9.30 Download BG 9.30 as Image

⮪ BG 9.29 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 9.31⮫

Bhagavad Gita Chapter 9 Verse 30

भगवद् गीता अध्याय 9 श्लोक 30

अपि चेत्सुदुराचारो भजते मामनन्यभाक्।
साधुरेव स मन्तव्यः सम्यग्व्यवसितो हि सः।।9.30।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 9.30)

।।9.30।।अगर कोई दुराचारीसेदुराचारी भी अनन्यभावसे मेरा भजन करता है? तो उसको साधु ही मानना चाहिये। कारण कि उसने निश्चय बहुत अच्छी तरह कर लिया है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।9.30।। यदि कोई अतिशय दुराचारी भी अनन्यभाव से मेरा भक्त होकर मुझे भजता है? वह साधु ही मानने योग्य है? क्योंकि वह यथार्थ निश्चय वाला है।।