Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 9.12 Download BG 9.12 as Image

⮪ BG 9.11 Bhagwad Gita Swami Chinmayananda BG 9.13⮫

Bhagavad Gita Chapter 9 Verse 12

भगवद् गीता अध्याय 9 श्लोक 12

मोघाशा मोघकर्माणो मोघज्ञाना विचेतसः।
राक्षसीमासुरीं चैव प्रकृतिं मोहिनीं श्रिताः।।9.12।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।9.12।। वृथा आशा? वृथा कर्म और वृथा ज्ञान वाले अविचारीजन राक्षसों के और असुरों के मोहित करने वाले स्वभाव को धारण किये रहते हैं।।

हिंदी टीका - स्वामी चिन्मयानंद जी

।।9.12।। See commentary under 9.13