Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 8.4 Download BG 8.4 as Image

⮪ BG 8.3 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 8.5⮫

Bhagavad Gita Chapter 8 Verse 4

भगवद् गीता अध्याय 8 श्लोक 4

अधिभूतं क्षरो भावः पुरुषश्चाधिदैवतम्।
अधियज्ञोऽहमेवात्र देहे देहभृतां वर।।8.4।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 8.4)

।।8.4।।हे देहधारियोंमें श्रेष्ठ अर्जुन क्षरभाव अर्थात् नाशवान् पदार्थको अधिभूत कहते हैं पुरुष अर्थात् हिरण्यगर्भ ब्रह्माजी अधिदैव हैं और इस देहमें अन्तर्यामीरूपसे मैं ही अधियज्ञ हूँ।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।8.4।। हे देहधारियों में श्रेष्ठ अर्जुन नश्वर वस्तु (पंचमहाभूत) अधिभूत और पुरुष अधिदैव है इस शरीर में मैं ही अधियज्ञ हूँ।।