Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 8.3 Download BG 8.3 as Image

⮪ BG 8.2 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 8.4⮫

Bhagavad Gita Chapter 8 Verse 3

भगवद् गीता अध्याय 8 श्लोक 3

श्री भगवानुवाच
अक्षरं ब्रह्म परमं स्वभावोऽध्यात्ममुच्यते।
भूतभावोद्भवकरो विसर्गः कर्मसंज्ञितः।।8.3।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 8.3)

।।8.3।।श्रीभगवान् बोले -- परम अक्षर ब्रह्म है और जीवका अपना जो होनापन है उसको अध्यात्म कहते हैं। प्राणियोंका उद्भव करनेवाला जो त्याग है उसकी कर्म संज्ञा है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।8.3।। श्रीभगवान् ने कहा -- परम अक्षर (अविनाशी) तत्त्व ब्रह्म है स्वभाव (अपना स्वरूप) अध्यात्म कहा जाता है भूतों के भावों को उत्पन्न करने वाला विसर्ग (यज्ञ प्रेरक बल) कर्म नाम से जाना जाता है।।