Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 8.28 Download BG 8.28 as Image

⮪ BG 8.27 Bhagwad Gita Swami Ramsukhdas Ji BG 9.1⮫

Bhagavad Gita Chapter 8 Verse 28

भगवद् गीता अध्याय 8 श्लोक 28

वेदेषु यज्ञेषु तपःसु चैव
दानेषु यत्पुण्यफलं प्रदिष्टम्।
अत्येति तत्सर्वमिदं विदित्वा
योगी परं स्थानमुपैति चाद्यम्।।8.28।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 8.28)

।।8.28।।योगी इसको (शुक्ल और कृष्णमार्गके रहस्यको) जानकर वेदोंमें यज्ञोंमें तपोंमें तथा दानमें जोजो पुण्यफल कहे गये हैं उन सभी पुण्यफलोंका अतिक्रमण कर जाता है और आदिस्थान परमात्माको प्राप्त हो जाता है।

हिंदी टीका - स्वामी रामसुख दास जी

।।8.28।। व्याख्या --   वेदेषु यज्ञेषु तपःसु ৷৷. स्थानमुपैति चाद्यम् -- यज्ञ दान तप तीर्थ व्रत आदि जितने भी शास्त्रीय उत्तमसेउत्तम कार्य हैं और उनका जो फल है वह विनाशी ही होता है। कारण कि जब उत्तमसेउत्तम कार्यका भी आरम्भ और समाप्ति होती है तो फिर उस कार्यसे उत्पन्न होनेवाला फल अविनाशी कैसे हो सकता है वह फल चाहे इस लोकका हो चाहे स्वर्गादि भोगभूमियोंका हो उसकी नश्वरतामें किञ्चिन्मात्र भी फरक नहीं है। जीव स्वयं परमात्माका अविनाशी अंश होकर भी विनाशी पदार्थोंमें फँसा रहे तो इसमें उसकी अज्ञता ही मुख्य है। अतः जो मनुष्य तेईसवें श्लोकसे लेकर छब्बीसवें श्लोकतक वर्णित शुक्ल और कृष्णमार्गके रहस्यको समझ लेता है वह यज्ञ तप दान आदि सभी पुण्यफलोंका अतिक्रमण कर जाता है। कारण कि वह यह समझ लेता है कि भोगभूमियोंकी भी आखिरी हद जो ब्रह्मलोक है वहाँ जानेपर भी लौटकर पीछे आना पड़ता है परन्तु भगवान्को प्राप्त होनेपर लौटकर नहीं आना पड़ता (8। 16) और साथसाथ यह भी समझ लेता है कि मैं तो साक्षात् परमात्माका अंश हूँ तथा ये प्राकृत पदार्थ नित्यनिरन्तर अभावमें नाशमें जा रहे हैं तो फिर वह नाशवान् पदार्थोंमें भोगोंमें न फँसकर भगवान्के ही आश्रित हो जाता है। इसलिये वह आदिस्थान (टिप्पणी प0 480) परमात्माको प्राप्त हो जाता है जिसको इसी अध्यायके इक्कीसवें श्लोकमें परमगति और परमधाम नामसे कहा गया है।नाशवान् पदार्थोंके संग्रह और भोगोंमें आसक्त हुआ मनुष्य उस आदिस्थान परमात्मतत्त्वको नहीं जान सकता। न जाननेकी यह असामर्थ्य न तो भगवान्की दी हुई है न प्रकृतिसे पैदा हुई है और न किसी कर्मका फल ही है अर्थात् यह असामर्थ्य किसीकी देन नहीं है किन्तु स्वयं जीवने ही परमात्मतत्त्वसे विमुख होकर इसको पैदा किया है। इसलिये यह स्वयं ही इसको मिटा सकता है। कारण कि अपने द्वारा की हुई भूलको स्वयं ही मिटा सकता है और इसको मिटानेका दायित्व भी स्वयंपर ही है। इस भूलको मिटानेमें यह जीव असमर्थ नहीं है निर्बल नहीं है अपात्र नहीं है। केवल संयोगजन्य सुखकी लोलुपताके कारण यह अपनेमें असामर्थ्यका आरोप कर लेता है और इसीसे मनुष्यजन्मके महान् लाभसे वञ्चित रह जाता है। अतः मनुष्यको संयोगजन्य सुखकी लोलुपताका त्याग करके मनुष्यजन्मको सार्थक बनानेके लिये नित्यनिरन्तर उद्यत रहना चाहिये।छठे अध्यायके अन्तमें भगवान्ने पहले योगीकी महिमा कही और पीछे अर्जुनको योगी हो जानेकी आज्ञा दी (6। 46) और यहाँ भगवान्ने पहले अर्जुनको योगी होनेकी आज्ञा दी और पीछे योगीकी महिमा कही। इसका तात्पर्य है कि छठे अध्यायमें योगभ्रष्टका प्रसङ्ग है और उसके विषयमें अर्जुनके मनमें सन्देह था कि वह कहीं नष्टभ्रष्ट तो नहीं हो जाता इस शङ्काको दूर करनेके लिये भगवान्ने कहा कि कोई किसी तरहसे योगमें लग जाय तो उसका पतन नहीं होता। इतना ही नहीं इस योगका जिज्ञासुमात्र भी शब्दब्रह्मका अतिक्रमण कर जाता है। इसलिये योगीकी महिमा पहले कही और पीछे अर्जुनके लिये योगी होनेकी आज्ञा दी। परन्तु यहाँ अर्जुनका प्रश्न रहा कि नियतात्मा पुरुषोंके द्वारा आप कैसे जाननेमें आते हैं इस प्रश्नका उत्तर देते हुए भगवान्ने कहा कि जो सांसारिक पदार्थोंसे सर्वथा विमुख होकर केवल मेरे परायण होता है उस योगीके लिये मैं सुलभ हूँ इसलिये पहले तू योगी हो जा ऐसी आज्ञा दी और पीछे योगीकी महिमा कही।इस प्रकार ँ़ तत् सत् -- इन भगवन्नामोंके उच्चारणपूर्वक ब्रह्मविद्या और योगशास्त्रमय श्रीमद्भगवद्गीतोपनिषद्रूप श्रीकृष्णार्जुनसंवादमें अक्षरब्रह्मयोग नामक आठवाँ अध्याय पूर्ण हुआ।।8।। ,