Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 8.21 Download BG 8.21 as Image

⮪ BG 8.20 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 8.22⮫

Bhagavad Gita Chapter 8 Verse 21

भगवद् गीता अध्याय 8 श्लोक 21

अव्यक्तोऽक्षर इत्युक्तस्तमाहुः परमां गतिम्।
यं प्राप्य न निवर्तन्ते तद्धाम परमं मम।।8.21।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 8.21)

।।8.21।।उसीको अव्यक्त और अक्षर कहा गया है और उसीको परमगति कहा गया है तथा जिसको प्राप्त होनेपर फिर लौटकर नहीं आते वह मेरा परमधाम है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।8.21।। जो अव्यक्त अक्षर कहा गया है वही परम गति (लक्ष्य) है। जिसे प्राप्त होकर (साधकगण) पुनः (संसार को) नहीं लौटते वह मेरा परम धाम है।।