Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 7.27 Download BG 7.27 as Image

⮪ BG 7.26 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 7.28⮫

Bhagavad Gita Chapter 7 Verse 27

भगवद् गीता अध्याय 7 श्लोक 27

इच्छाद्वेषसमुत्थेन द्वन्द्वमोहेन भारत।
सर्वभूतानि संमोहं सर्गे यान्ति परन्तप।।7.27।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 7.27)

।।7.27।।हे भरतवंशमें उत्पन्न परंतप इच्छा (राग) और द्वेषसे उत्पन्न होनेवाले द्वन्द्वमोहसे मोहित सम्पूर्ण प्राणी संसारमें मूढ़ताको अर्थात् जन्ममरणको प्राप्त हो रहे हैं।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।7.27।। हे परन्तप भारत इच्छा और द्वेष से उत्पन्न द्वन्द्वमोह से भूतमात्र उत्पत्ति काल में ही संमोह (अविवेक) को प्राप्त होते हैं।।