Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 7.25 Download BG 7.25 as Image

⮪ BG 7.24 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 7.26⮫

Bhagavad Gita Chapter 7 Verse 25

भगवद् गीता अध्याय 7 श्लोक 25

नाहं प्रकाशः सर्वस्य योगमायासमावृतः।
मूढोऽयं नाभिजानाति लोको मामजमव्ययम्।।7.25।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 7.25)

।।7.25।।जो मूढ़ मनुष्य मेरेको अज और अविनाशी ठीक तरहसे नहीं जानते (मानते) उन सबके सामने योगमायासे अच्छी तरहसे आवृत हुआ मैं प्रकट नहीं होता।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।7.25।। अपनी योगमाया से आवृत्त मैं सबको प्रत्यक्ष नहीं होता हूँ। यह मोहित लोक (मनुष्य) मुझ जन्मरहित अविनाशी को नहीं जानता है।।