Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 6.43 Download BG 6.43 as Image

⮪ BG 6.42 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 6.44⮫

Bhagavad Gita Chapter 6 Verse 43

भगवद् गीता अध्याय 6 श्लोक 43

तत्र तं बुद्धिसंयोगं लभते पौर्वदेहिकम्।
यतते च ततो भूयः संसिद्धौ कुरुनन्दन।।6.43।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 6.43)

।।6.43।।हे कुरुनन्दन वहाँपर उसको पूर्वजन्मकृत साधनसम्पत्ति अनायास ही प्राप्त हो जाती है। उससे वह साधनकी सिद्धिके विषयमें पुनः विशेषतासे यत्न करता है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।6.43।। हे कुरुनन्दन वह पुरुष वहाँ पूर्व देह में प्राप्त किये गये ज्ञान से सम्पन्न होकर योगसंसिद्धि के लिए उससे भी अधिक प्रयत्न करता है।।