Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 6.4 Download BG 6.4 as Image

⮪ BG 6.3 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 6.5⮫

Bhagavad Gita Chapter 6 Verse 4

भगवद् गीता अध्याय 6 श्लोक 4

यदा हि नेन्द्रियार्थेषु न कर्मस्वनुषज्जते।
सर्वसङ्कल्पसंन्यासी योगारूढस्तदोच्यते।।6.4।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 6.4)

।।6.4।।जिस समय न इन्द्रियोंके भोगोंमें तथा न कर्मोंमें ही आसक्त होता है उस समय वह सम्पूर्ण संकल्पोंका त्यागी मनुष्य योगारूढ़ कहा जाता है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।6.4।। जब (साधक) न इन्द्रियों के विषयों में और न कर्मों में आसक्त होता है तब सर्व संकल्पों के संन्यासी को योगारूढ़ कहा जाता है।।