Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 6.28 Download BG 6.28 as Image

⮪ BG 6.27 Bhagwad Gita Hindi BG 6.29⮫

Bhagavad Gita Chapter 6 Verse 28

भगवद् गीता अध्याय 6 श्लोक 28

युञ्जन्नेवं सदाऽऽत्मानं योगी विगतकल्मषः।
सुखेन ब्रह्मसंस्पर्शमत्यन्तं सुखमश्नुते।।6.28।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 6.28)

।।6.28।।इस प्रकार अपनेआपको सदा परमात्मामें लगाता हुआ पापरहित योगी सुखपूर्वक ब्रह्मप्राप्तिरूप अत्यन्त सुखको प्राप्त हो जाता है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।6.28।। इस प्रकार मन को सदा आत्मा में स्थिर करने का योग करने वाला पापरहित योगी सुखपूर्वक ब्रह्मसंस्पर्श का परम सुख प्राप्त करता है।।

हिंदी टीका - स्वामी रामसुख दास जी

।।6.28।। व्याख्या  युञ्जन्नेवं सदात्मानं योगी विगतकल्मषः अपनी स्थितिके लिये जो (मनको बारबार लगाना आदि) अभ्यास किया जाता है वह अभ्यास यहाँ नहीं है। यहाँ तो अनभ्यास ही अभ्यास है अर्थात् अपने स्वरूपमें अपनेआपको दृढ़ रखना ही अभ्यास है। इस अभ्यासमें अभ्यासवृत्ति नहीं है। ऐसे अभ्याससे वह योगी अहंताममतारहित हो जाता है। अहंता और ममतासे रहित होना ही पापोंसे रहित होना है क्योंकि संसारके साथ अहंताममतापूर्वक सम्बन्ध रखना ही पाप है।पंद्रहवें श्लोकमें युञ्जन्नेवम् पद सगुणके ध्यानके लिये आया है और यहाँ युञ्जन्नेवम् पद निर्गुणके ध्यानके लिये आया है। ऐसे ही पंद्रहवें श्लोकमें नियतमानसः आया है और यहाँ विगतकल्मषः आया है क्योंकि वहाँ परमात्मामें मन लगानेकी मुख्यता है और यहाँ जडताका त्याग करनेकी मुख्यता है। वहाँ तो परमात्माका चिन्तन करतेकरते मन सगुण परमात्मामें तल्लीन हो गया तो संसार स्वतः ही छूट गया और यहाँ अंहताममतारूप कल्मषसे अर्थात् संसारसे सर्वथा सम्बन्धविच्छेद करके अपने ध्येय परमात्मामें स्थित हो गया। इस प्रकार दोनोंका तात्पर्य एक ही हुआ अर्थात् वहाँ परमात्मामें लगनेसे संसार छूट गया और यहाँसंसारको छोड़कर परमात्मामें स्थित हो गया।सुखेन ब्रह्मसंस्पर्शमत्यन्तं सुखमश्नुते उसकी ब्रह्मके साथ जो अभिन्नता होती है उसमें मैं पनका संस्कार भी नहीं रहता सत्ता भी नहीं रहती। यही सुखपूर्वक ब्रह्मका संस्पर्श करना है। जिस सुखमें अनुभव करनेवाला और अनुभवमें आनेवाला ये दोनों ही नहीं रहते वह अत्यन्त सुख है। इस सुखको योगी प्राप्त कर लेता है। यह अत्यन्त सुख अक्षय सुख (5। 21) और आत्यन्तिक सुख (6। 21) ये एक ही परमात्मतत्त्वरूप आनन्दके वाचक हैं। सम्बन्ध  अठारहवेंसे तेईसवें श्लोकतक स्वरूपका ध्यान करनेवाले जिस सांख्ययोगीका वर्णन हुआ है उसके अनुभवका वर्णन आगेके श्लोकमें करते हैं।

हिंदी टीका - स्वामी चिन्मयानंद जी

।।6.28।। आत्मविकास एवं आत्मसंयम की साधना में प्रवृत्त हुआ योगी धीरेधीरे आत्मअज्ञान के अन्धकार और दोषों से बाहर ज्ञान के प्रकाश में आकर आनन्द का अनुभव करता है। जब साधक योगाभ्यास से मन को शान्त रखता है तब मानो ध्यान की उष्णता में मन का शुद्धीकरण होता है जैसे अग्नि की उष्णता में किसी लौहखण्ड का।जैसा पहले बताया जा चुका है मनुष्य अपने पुरुषार्थ से मन को विषयों से परावृत्त करके आत्मा में स्थिर कर सकता है। तत्पश्चात् मन एक गुब्बारे के समान विनष्ट हो जाता है जो आकाश में उँचा उड़ता हुआ विरलतर वातावरण में पहुँच कर फूट जाता है। उसके फूटने पर गुब्बारा तो नीचे गिर जाता है और गुब्बारे में स्थित आकाश बाह्य महाकाश के साथ एकाकार हो जाता है। इसी प्रकार ध्यान की चरम स्थिति में मन नष्ट होता है तब अहंकार गिर जाता है और वह मन परमात्मा के साथ एकीभाव को प्राप्त हो जाता है और तब उसे ब्रह्मसंस्पर्श के परम सुख की अनुभूति होती है।यहाँ भगवान् अधीर और जिज्ञासु साधक को सच्चित्स्वरूप तत्त्व का ज्ञान कराना चाहते हैं जिसका अनुभव अन्तकरण के तादात्म्य के परियोग से ही संभव है। यह दर्शाने के लिए कि आत्मानुभूति की स्थिति आनन्द की है भगवान् कहते हैं कि ब्रह्मसंस्पर्श से साधक अत्यन्त सुखी होता है। आत्मानुभव और ब्रह्मसंस्पर्श पर्यायवाची शब्द ही समझने चाहिये।अब अगले श्लोक में योग के फल एकत्वदर्शन का वर्णन किया गया है