Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 6.16 Download BG 6.16 as Image

⮪ BG 6.15 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 6.17⮫

Bhagavad Gita Chapter 6 Verse 16

भगवद् गीता अध्याय 6 श्लोक 16

नात्यश्नतस्तु योगोऽस्ति न चैकान्तमनश्नतः।
न चातिस्वप्नशीलस्य जाग्रतो नैव चार्जुन।।6.16।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 6.16)

।।6.16।।हे अर्जुन यह योग न तो अधिक खानेवालेका और न बिलकुल न खानेवालेका तथा न अधिक सोनेवालेका और न बिलकुल न सोनेवालेका ही सिद्ध होता है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।6.16।। परन्तु हे अर्जुन यह योग उस पुरुष के लिए सम्भव नहीं होता जो अधिक खाने वाला है या बिल्कुल न खाने वाला है तथा जो अधिक सोने वाला है या सदा जागने वाला है।।