Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 6.15 Download BG 6.15 as Image

⮪ BG 6.14 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 6.16⮫

Bhagavad Gita Chapter 6 Verse 15

भगवद् गीता अध्याय 6 श्लोक 15

युञ्जन्नेवं सदाऽऽत्मानं योगी नियतमानसः।
शान्तिं निर्वाणपरमां मत्संस्थामधिगच्छति।।6.15।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 6.15)

।।6.15।।नियत मनवाला योगी मनको इस तरहसे सदा परमात्मामें लगाता हुआ मेरेमें सम्यक् स्थितिवाली जो निर्वाणपरमा शान्ति है उसको प्राप्त हो जाता है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।6.15।। इस प्रकार सदा मन को स्थिर करने का प्रयास करता हुआ संयमित मन का योगी मुझमें स्थित परम निर्वाण (मोक्ष) स्वरूप शांति को प्राप्त होता है।।