Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 6.13 Download BG 6.13 as Image

⮪ BG 6.12 Bhagwad Gita Brahma Vaishnava Sampradaya BG 6.14⮫

Bhagavad Gita Chapter 6 Verse 13

भगवद् गीता अध्याय 6 श्लोक 13

समं कायशिरोग्रीवं धारयन्नचलं स्थिरः।
संप्रेक्ष्य नासिकाग्रं स्वं दिशश्चानवलोकयन्।।6.13।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।6.13।। काया सिर और ग्रीवा को समान और अचल धारण किये हुए स्थिर होकर अपनी नासिका के अग्र भाग को देखकर अन्य दिशाओं को न देखता हुआ।।

Brahma Vaishnava Sampradaya - Commentary

There is no commentary for this verse.