Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 6.1 Download BG 6.1 as Image

⮪ BG 5.29 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 6.2⮫

Bhagavad Gita Chapter 6 Verse 1

भगवद् गीता अध्याय 6 श्लोक 1

श्री भगवानुवाच
अनाश्रितः कर्मफलं कार्यं कर्म करोति यः।
स संन्यासी च योगी च न निरग्निर्न चाक्रियः।।6.1।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 6.1)

।।6.1।।श्रीभगवान् बोले कर्मफलका आश्रय न लेकर जो कर्तव्यकर्म करता है वही संन्यासी तथा योगी है और केवल अग्निका त्याग करनेवाला संन्यासी नहीं होता तथा केवल क्रियाओंका त्याग करनेवाला योगी नहीं होता।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।6.1।। श्रीभगवान् ने कहा जो पुरुष कर्मफल पर आश्रित न होकर कर्तव्य कर्म करता है वह संन्यासी और योगी है न कि वह जिसने केवल अग्नि का और क्रियायों का त्याग किया है।।