Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 5.6 Download BG 5.6 as Image

⮪ BG 5.5 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 5.7⮫

Bhagavad Gita Chapter 5 Verse 6

भगवद् गीता अध्याय 5 श्लोक 6

संन्यासस्तु महाबाहो दुःखमाप्तुमयोगतः।
योगयुक्तो मुनिर्ब्रह्म नचिरेणाधिगच्छति।।5.6।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 5.6)

।।5.6।।(टिप्पणी प0 286) परन्तु हे महाबाहो कर्मयोगके बिना संन्यास सिद्ध होना कठिन है। मननशील कर्मयोगी शीघ्र ही ब्रह्मको प्राप्त हो जाता है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।5.6।। परन्तु हे महाबाहो योग के बिना संन्यास प्राप्त होना कठिन है योगयुक्त मननशील पुरुष परमात्मा को शीघ्र ही प्राप्त होता है।।