Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 5.4 Download BG 5.4 as Image

⮪ BG 5.3 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 5.5⮫

Bhagavad Gita Chapter 5 Verse 4

भगवद् गीता अध्याय 5 श्लोक 4

सांख्ययोगौ पृथग्बालाः प्रवदन्ति न पण्डिताः।
एकमप्यास्थितः सम्यगुभयोर्विन्दते फलम्।।5.4।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 5.4)

।।5.4।।बेसमझ लोग सांख्ययोग और कर्मयोगको अलगअलग फलवाले कहते हैं न कि पण्डितजन क्योंकि इन दोनोंमेंसे एक साधनमें भी अच्छी तरहसे स्थित मनुष्य दोनोंके फलरूप परमात्माको प्राप्त कर लेता है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।5.4।। बालक अर्थात् बालबुद्धि के लोग सांख्य (संन्यास) और योग को परस्पर भिन्न समझते हैं किसी एक में भी सम्यक् प्रकार से स्थित हुआ पुरुष दोनों के फल को प्राप्त कर लेता है।।