Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 5.3 Download BG 5.3 as Image

⮪ BG 5.2 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 5.4⮫

Bhagavad Gita Chapter 5 Verse 3

भगवद् गीता अध्याय 5 श्लोक 3

ज्ञेयः स नित्यसंन्यासी यो न द्वेष्टि न काङ्क्षति।
निर्द्वन्द्वो हि महाबाहो सुखं बन्धात्प्रमुच्यते।।5.3।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 5.3)

।।5.3।।हे महाबाहो जो मनुष्य न किसीसे द्वेष करता है और न किसीकी आकाङ्क्षा करता है वह (कर्मयोगी) सदा संन्यासी समझनेयोग्य है क्योंकि द्वन्द्वोंसे रहित मनुष्य सुखपूर्वक संसारबन्धनसे मुक्त हो जाता है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।5.3।। जो पुरुष न किसी से द्वेष करता है और न किसी की आकांक्षा वह सदा संन्यासी ही समझने योग्य है क्योंकि हे महाबाहो द्वन्द्वों से रहित पुरुष सहज ही बन्धन मुक्त हो जाता है।।