Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 5.2 Download BG 5.2 as Image

⮪ BG 5.1 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 5.3⮫

Bhagavad Gita Chapter 5 Verse 2

भगवद् गीता अध्याय 5 श्लोक 2

श्री भगवानुवाच
संन्यासः कर्मयोगश्च निःश्रेयसकरावुभौ।
तयोस्तु कर्मसंन्यासात्कर्मयोगो विशिष्यते।।5.2।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 5.2)

।।5.2।।श्रीभगवान् बोले संन्यास (सांख्ययोग) और कर्मयोग दोनों ही कल्याण करनेवाले हैं। परन्तु उन दोनोंमें भी कर्मसंन्यास(सांख्ययोग)से कर्मयोग श्रेष्ठ है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।5.2।। श्रीभगवान् ने कहा कर्मसंन्यास और कर्मयोग ये दोनों ही परम कल्याणकारक हैं परन्तु उन दोनों में कर्मसंन्यास से कर्मयोग श्रेष्ठ है।।